Sunday, April 17, 2011

वीडियोग्राफी क्यों नहीं हो सकती...

पंसारी तक की दुकान में छोटे-छोटे, कांच के चमकते हुये गोले लटके दिखाई देते हैं, यानी सीसीटीवी के कैमरे. जिनके माध्यम से लाला अपने कर्मियों पर निगाह रखता है कि कौन काम कर रहा है, कौन नहीं. कोई उसका माल तो दांये-बांये नहीं कर रहा. होटल-रेस्टोरेन्ट से लेकर कार्यालयों और बैंकों में यह युक्ति अपना कार्य कर रही है. सार्वजनिक स्थलों और संवेदनशील जगहों पर भी क्लोज सर्किट टेलीविजन के कैमरे देखे जा सकते हैं.
प्रस्तावित लोकपाल बिल के सम्बन्ध में ड्राफ्टिंग कमेटी की पहली बैठक हो चुकी है, जिसके बाद कपिल सिब्बल साहब यह कहते हुये सुने गये कि कमेटी के सदस्य काफी "समझदारी" दिखा रहे हैं. यद्यपि इसके बाद अरविन्द केजरीवाल जी ने काफी कुछ नसीहत भी सिब्बल जी को दे डाली. जैसा कि सुना है कि ड्राफ्टिंग कमेटी के गैर -सरकारी  सदस्य इन मीटिंगों की वीडियोग्राफी कराने के पक्ष में हैं किन्तु सरकारी पक्ष के सदस्य नहीं.
मेरी समझ में नहीं आता कि वीडियोग्राफी कराने में हर्ज क्या है. मुझे यह भी समझ में नहीं आता कि वीडियोग्राफी से किस प्रकार का खतरा हो सकता है या क्या कानूनी दिक्कतें हो सकती हैं. बल्कि मैं तो और एक कदम आगे जाकर कहूंगा कि इन मीटिंगों का "लाइव" प्रसारण होना चाहिये जिससे कि पूरे देश को यह पता तो चले कि उनके निर्वाचित प्रतिनिधियों का और गैर-सरकारी सदस्यों का रुख मीटिंगों में कैसा रहता है, उनके विचार क्या होते हैं. किस प्रकार के सवाल-जवाब होते हैं, कैसे कैसे तर्क-वितर्क-कुतर्क सामने रखे जाते हैं, इन सभी सदस्यों की भाव- भंगिमायें कैसी रहती हैं. कौन क्या चाहता है, किसका व्यवहार कैसा रहता है. कम से कम असली सूरत तो दिखाई देना चाहिये हम लोगों को.

24 comments:

  1. सूचनाओं की अधिकता भी एक प्रकार की सूचना का संकट है.

    ReplyDelete
  2. खतरा वही है जो अब तक था - जल्दी पकडे जाने का। हवाई अड्डों आदि जिन जगहों पर भी सीसीटीवी कैमरे लगे हैं, आम आदमी का जीवन काफी आसान हो गया है। पारदर्शिता ने किसी ईमानदार व्यक्ति को कभी नहीं डराया है।

    ReplyDelete
  3. पोल खुलने के डर से ये कभी वीडियोग्राफी नहीं करोयेंगे!

    ReplyDelete
  4. ...क्योंकि कुछ लोग नहीं चाहते होंगे कि उनकी इशारों-इशारों में की जाने वाली बातें बाहर लोगों को पता चलें..

    ReplyDelete
  5. ऑडियो रिकार्डिंग हो रही है, यही उपलब्धि है। वीडियो रिकॉर्डिंग की मांग पर ऑडियो पर तो सहमति बनी!

    ReplyDelete
  6. असली चेहरा छिपा रहे.. इसलिए वीडियोग्राफी नहीं हो सकती...

    ReplyDelete
  7. कहीं सच बेनकाब न हो जाये!
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  8. लाइव हो तो बहुत प्रचारधन मिल जायेगा सबको।

    ReplyDelete
  9. मुझे भी समझ नहीं आता.......अगर चुने हुए लोग चुनी हुई बात कहते है.....तो इसमे छुपाना क्या..????

    ReplyDelete
  10. अब बताइए,यह भी कोई मांग हुई? आप क्यों चाहते हैं कि जनता उन्हें सोते, उबासी लेते हुए देखे?एक तो भूख हड़ताल कर उनसे उबाऊ काम करवाते हो और ऊपर से चाहते हो तमाशबीन बन देखो भी! अत्याचार है बेचारों पर!
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  11. पोल खुल जायेगी इसलिए नहीं हो सकती.

    ReplyDelete
  12. सर, जब मंत्री जी कह रहे हैं तो ठीक ही होगा। काये कू खाली पीली परेशान करना बेचारों को..

    ReplyDelete
  13. इमानदारों पर भी निगरानी ? उन पर थोडा भरोसा रखना हमारी नैतिक जिम्मेदारी है।

    ReplyDelete
  14. कांग्रेसी इन सबके लिए मानेंगे नहीं और अन्ना एण्ड पार्टी समझौते पर समझौते करती चली जा रही है।

    ReplyDelete
  15. जाट देवता की राम-राम,
    विडियोग्राफ़ी में इन सबकी असलियत रिकार्ड हो जायेगी?

    ReplyDelete
  16. आपकी बात का पूरा समर्थन करता हूँ ... सरकार और उससे जुड़ी हर प्रक्रिया की मीडीया टेलएकास्ट ज़रूर होनी चाहिए ...

    ReplyDelete
  17. चलो कोई नही ऑडियो रेकॉर्डिंग तो होगी ।

    ReplyDelete
  18. aapki baat theek hai......par hamaam ka darwaza khole kaun...? sadhuwad..

    aapki baat theek hai......par hamaam ka darwaza khole kaun...? sadhuwad..

    ReplyDelete
  19. kahi na kahi daal mein kala to jaroor hai sahib.

    ReplyDelete
  20. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  21. इसलिए की लोंगों को असली चेहरा पता न चल जाये....

    ReplyDelete
  22. सुझाव तो सही है लेकिन माने कौन?

    ReplyDelete

मैंने अपनी बात कह दी, आपकी प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा है. अग्रिम धन्यवाद.