Wednesday, March 16, 2011

आरक्षण, समर्थन और विरोध

पहले एक बिरादरी आरक्षण की मांग को लेकर राजस्थान में सामने आई थी और अब उत्तर प्रदेश में एक और बिरादरी. दलित मुस्लिम और ईसाई नाम की एक नई बिरादरी भी सामने आ रही है, इन्हें भी आरक्षण देने की मांग उठ रही है. यद्यपि इस बिरादरी की मांगों का विरोध भी होना प्रारम्भ हो गया है. विरोध वे कर रहे हैं, जिन्हें लगता है कि यदि इस बिरादरी को आरक्षण दे दिया गया तो उनकी प्रतिशतता कम हो जायेगी. आरक्षण अब नौकरी तक सीमित नहीं रह गया, इसका व्यापक प्रभाव हर क्षेत्र में है, शिक्षा, नौकरी, पदोन्नति, राजनीति, ठेके वगैरह. हर वह बिरादरी जो वोट बैंक बन सकती है या बन जाती है, आरक्षण की मांग कर रही है. आज एक जाति है तो कल दूसरी खड़ी होगी. यह एक अच्छा तरीका हो सकता है यदि जातियों के अनुपात में सभी के लिये आरक्षण दे दिया जाये. इसमें किसी बिरादरी के नाराज होने की भी सम्भावना नहीं. जिस की जितनी जनसंख्या, उसी अनुपात में आरक्षण. इसमें अधिक कठिनाई भी नहीं होना चाहिये क्योंकि जनगणना के बाद सारे आंकड़े उपलब्ध हो जायेंगे. लेकिन फिर वही दिक्कत रहेगी कि यदि इसे लागू कर दिया गया तो फिर यह मुद्दा शायद राजनीति के लिये कारगर नहीं रह जायेगा.

9 comments:

  1. इस तरह के नये अध्याय खुलते ही रहेंगे। एक बार नल खोल देने से कितना पानी बह जायेगा, पता नहीं चलता।

    ReplyDelete
  2. कुछ समस्याएं बनी रहनी चाहिए, लोकतंत्र पर विश्वास बना रहता है |

    ReplyDelete
  3. मेरा तो मत है की सभी जाति- सम्प्रदायों जैसे ब्राहमण , जैन , सिख सभी को आरक्षण के मांग कर सारे एयरपोर्टों पर बैठ जाना चाहिए ! तभी यह घृणित राजनैतिक धंधा बंद हो पायेगा !

    ReplyDelete
  4. फिर तो राजनीति ही खत्म हो जाएगी...................... . सब वोट का ही तो खेल है.

    ReplyDelete
  5. आरक्षण sabko chaiye.hum jainse jo aarkishit nahi hai, unhe bhi aarkshan chaiye. jainse railway ke ticket ke liye , hotel ke liye or jahan jao wahan,,,,,,,,,,

    ReplyDelete
  6. आरक्षण के विष का मूल कारण जातिवाद भी है, यदि जातियों के बंधन ढीले हों तो धीरे धीरे आरक्षण भी समाप्त हो ही जायेगा.

    ReplyDelete
  7. सब वोट का ही तो खेल है.हवे अ गुड डे !
    मेरे ब्लॉग पर आये !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se
    Latest News About Tech

    ReplyDelete
  8. एक तो ये संभव नहीं है, फिर नीरज बसलियाल की टिप्पणी भी गौरतलब है.

    ReplyDelete
  9. नीरज की टिप्पणी को सैकंड तो सोमेश ने कर दिया, हम एक और सैकंड करते हैं सर।

    ReplyDelete

मैंने अपनी बात कह दी, आपकी प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा है. अग्रिम धन्यवाद.