Saturday, December 31, 2011

भ्रष्टाचार पर अरण्य रोदन के विषय में

बात भ्रष्टाचार की खूब चल रही है, नित नये सु/कुविचार और सु/कुतर्क भी सुनने को मिलते हैं. एक और भी विचार आजकल चलन/फैशन में है, जिसे हमारे यहां के बुद्धिजीवी ब्लाग/सोशल साइट्स और अखबारों में निरन्तर प्रकाशित कर/करवा रहे हैं. वह है कि भ्रष्टाचार के लिये भ्रष्टाचार मिटाने के लिये आम आदमी को आगे आना चाहिये और उसे भ्रष्टाचार के विरुद्ध लड़ना चाहिये, भ्रष्टाचारी भी समाज का अंग हैं, उनका बहिष्कार होना चाहिये. यदि आप घूस देंगे नहीं तो लेने वाले को मिलेगी कैसे और आप स्वयं क्या करते हैं, नक्शे में कुछ और दिखाया जाता है, बनाया कुछ और जाता है, रजिस्ट्री कराते समय स्टाम्प कम लगे, इसलिये आप कम दाम दिखाते हैं, या फिर रेलयात्रा में सीट पाने के लिये, वगैरा वगैरा. इसमें सारी बातें सही हैं और मैं इससे सहमत भी हूं, लेकिन मैं उनके इस विचार से कतई इत्तफाक नहीं रखता कि भ्रष्टाचार इसलिये बढ़ रहा है कि आम आदमी ऊपर लिखी गयी तथा इसके अतिरिक्त इसी प्रकार की और गलत चीजों को अपनाता है तथा बढ़ावा देता है.

जैसा कि मैंने पाया है कि आम आदमी खुशी खुशी भ्रष्ट आचरण को बढ़ावा तब देता है जब वह स्वयं अवैधानिक कार्य करता है जिसमें ऊपर लिखी हुई सारी बातें शामिल हैं. लेकिन जहाँ पूरा सिस्टम ही ऐसा बनाकर रख दिया गया हो जिसमें पैदा होने के प्रमाणपत्र  से लेकर मरने के सर्टीफिकेट बनवाने तक पैसा देना पड़े तो कौन सा ऐसा व्यक्ति होगा (अपवाद छोड़कर-जिसमें समाज के बहुत ताकतवर व्यक्ति आते हैं) जो इस कुचक्र से बच सकता है. रेलवे में रिजर्वेशन को लेकर अक्सर बड़ी बड़ी बहसें छिड जाती हैं कि आम आदमी सीट की प्राप्ति के लिए किस तरह से भ्रष्टाचार को बढ़ावा देता है. मान लीजिए कि टीटी के पास दो सीटें उपलब्ध हैं और जाने वाले आठ लोग मौजूद हैं. टीटी किसे प्राथमिकता देगा, जिससे उसे कुछ लाभ होगा (यदि टीटी उस प्रकार का है तब). अब इस स्थिति में आठों लोग ही प्रयासरत होते हैं कि कैसे भी एक सीट हासिल हो जाये. अमूमन यह होता है कि टीटी के पास जायें तो वह सीट उपलब्ध होने पर भी मना कर देता है और जाहिर है कि आम आदमी के पास यह सूचना नहीं होती कि यह बात सत्य है या नहीं. और जहाँ कोई आदमी अपने स्वार्थों की पूर्ति हेतु भ्रष्टाचार करने पर आमादा होता है वहाँ भी यह जिम्मेदारी शासन की होती है जिसके लोगों को अपने काम करने के लिए वेतन दिया जाता है और उनकी जिम्मेदारी बनती है जिनके कन्धों पर गलत कार्य-व्यवहार रोकने के लिए नियुक्त किया जाता है.

थोड़ी-बहुत देर बाद  लोग आगे पीछे घूमते हैं तो यह देखा जाता है कि कौन सा व्यक्ति मतलब का है. अब जो व्यक्ति मतलब का है उसे आश्वासन दे दिया जाता है और बाद में सीट भी. मान लीजिए कि जो व्यक्ति सबसे पहले आया था और उस व्यक्ति को सीट न देकर बाद में आने वाले व्यक्ति को सीट दे दी गयी तो फिर ऐसे में एक ईमानदार व्यक्ति को क्या हासिल हुआ. कुछ नहीं. लोग इस पर कहते हैं कि भैया ऐसे मामलों में शिकायत करो. किससे करो? और उसका नतीजा क्या? पहली बात यह कि जिसे आवश्यकता थी और जो हक़दार था उसे सीट नहीं मिली. अब शिकायत करने के लिए अपनी जेब से बीस-तीस रुपये खर्च करो और फिर इन शिकायतों का क्या अंजाम होता है, सब जानते हैं. चूँकि इस प्रकार की शिकायतों पर यदि तुरंत कार्रवाई हो तभी कुछ सार्थक घटित हो सकता है. अब यदि व्यक्ति की रेल का समय रात का है ऐसे समय में शिकायत कौन सुनेगा जब कि सामान्य समय में भी शिकायतों पर कार्रवाई नहीं हो पाती.

कहीं दिक्कत संसाधनों को लेकर भी होती है. और जाहिर है कि किसी भी सरकार के लिए सबसे अच्छा बचाव हो सकता है कि हमारे पास संसाधन नहीं हैं. जिस प्रकार से जनसँख्या अबाध गति से बढती जा रही है, उस हिसाब से तो कभी भी संसाधन पर्याप्त नहीं हो सकते. जनसँख्या वृद्धि->मंहगाई->भ्रष्टाचार यह सभी एक ही चक्र में समाहित हैं और एक दूसरे का कारक और कारण भी हैं. और भारत के भोले भाले लोग सियासतदानों की इन चालाकियों को समझ नहीं पाते. उन्हें इसीलिए इस चक्र में उलझाया गया है कि सुबह से शाम तक पेट भरने की ही जुगत में लगे रहें. जब दिन भर इसी में लगे रहेंगे तो और किसी चीज पर निगाह डालने का समय ही नहीं मिलेगा और फिर इन कुचर्कों में यूँ ही फँसे रहेंगे.

लोग यह भी कहते हैं कि लोकपाल के लिए कुंदन जैसा व्यक्ति कहाँ से आएगा. हमारे यहाँ तमाम संवैधानिक संस्थान हैं, न्यायपालिका है जिनमें तमाम उच्च नैतिक मानदंड अपनाने वाले लोग हुए हैं. आखिर वे भी तो यहीं से आये हैं. और फिर यदि यही माना जाए कि एक व्यक्ति भी कुंदन की तरह खरा नहीं मिल सकता तो फिर तमाम सरकारी-निजी-गैर सरकारी संस्थाओं में बैठे लोग सब के सब गलत हैं. कदापि नहीं. जाने कितने लोग हैं जो आज भी पूरे ईमानदार हैं, और जो व्यक्ति ७०-८०-९० प्रतिशत भी ईमानदार है उसे सौ प्रतिशत में बदलते देर नहीं लगती. ऐसे भी लोग हैं जो पैसा लेते नहीं लेकिन उन्हें कहीं न कहीं देना पड़ जाता है तो इस तरह के लोगों को आप भ्रष्ट नहीं कह सकते. न जाने कितने महकमे ऐसे हैं जहाँ तबादले को उद्योग बना दिया गया है. और फिर इसे भ्रष्टाचार क्यों नहीं माना जाता कि कुछ पैसे वाले लोग तमाम संसाधनों पर कब्ज़ा कर लेते हैं और फिर उनकी मनमानी कीमत वसूल करते हैं. रियल एस्टेट में जाकर देखिये कि किस तरह किसानों की जमीन निहायत कम दामों पर खरीद ली जाती है और फिर मन-माने दामों में बेची जाती है. चीनी और अरहर का मामला सामने है जहाँ इसका स्टॉक कर लिया गया और फिर अंधाधुंध दामों पर ये वस्तुएँ बेची गयीं.

चतुर लोग माहौल को ऐसा बना देते हैं कि तन-मन-धन लुटा देने वाला आम आदमी स्वयं को ही भ्रष्टाचार का जनक मानने लगता है.  अगर भ्रष्टाचार को रोकने में कठिनाई आ रही है तो फिर ऐसी व्यवस्था क्यों नहीं बनाई जा रही जिससे कि अवैध कमाई करने वाला उसे खर्च न कर सके. जब अवैध रूप से कमाया गया धन व्यय ही नहीं किया जा सकेगा तो फिर उसे कमाएगा कौन और क्यों. यह मानना ही पड़ेगा कि देश में अप्रत्याशित रूप से बढ़ी महँगाई के पीछे भी यही काला धन है. लेकिन संसद में क्या हुआ सब के सामने आ चुका है. श्रीमान राम जेठमलानी जी के भाषण में जो विषय उठाये गए वे बहुत महत्वपूर्ण थे लेकिन!

28 comments:

  1. सही कह रहे हैं आप. हम लोग भी जब यहाँ से भारत जाते हैं तो सारे काम एकदम नियम कानून से करने का भूत चड़ा होता है. और यह कहते हुए मुझे बेहद दुःख होता है कि यह भूत एक हफ्ते में ही उतर जाता है क्योंकि वहाँ कोई भी काम (एक रेलवे का टिकेट बुक करने जैसा भी) ..सीधे तरीके से नहीं हो पाता.

    ReplyDelete
  2. आपके आलेख के किसी भी बिन्दु से असहमत होने का प्रश्न ही नहीं उठता। भ्रष्ट शक्तिशाली अधिकारी अपने आधिकारिक बल के द्वारा अपने स्वार्थ को हर प्रकार के व्यक्ति पर थोपता है। गिने-चुने लोग ऐसे भ्रष्टाचार के खिलाफ़ जंग भी लड़ते हैं परंतु अलग-थलग पड़ जाते हैं। कुछ लोग मजबूरी में भ्रष्टाचार को हवा देते हैं जबकि अपराधी प्रवृत्ति के लोग ऐसी बुराइयों के साथ मिलकर फ़ायदा उठाते हैं। दुख यह है कि कई बार ईमानदार लोग भी अज्ञानवश ऐसे लोगों के भ्रष्ट अचीवमेंट्स का विरोध करने के बजाय बधाई देने और उनकी हार पर मानवतावश सहानुभूति करने पहुँच जाते हैं। भ्रष्टाचार के विरुद्ध लड़ाई तभी लड़ी जा सकती है जब सज्जन वर्ग न केवल सशक्त और संगठित हो वह यह भी पहचाने कि अपने फ़ायदे के लिये ईमानदारी का राग अलापने वाला हर व्यक्ति भी ईमानदार नहीं होता। बहुत सुन्दर आलेख। आपके मन की व्यथा लाखों ईमानदारों की व्यथा है।

    ReplyDelete
  3. आपके आलेख के किसी भी बिन्दु से असहमत होने का प्रश्न ही नहीं उठता। भ्रष्ट शक्तिशाली अधिकारी अपने आधिकारिक बल के द्वारा अपने स्वार्थ को हर प्रकार के व्यक्ति पर थोपता है। गिने-चुने लोग ऐसे भ्रष्टाचार के खिलाफ़ जंग भी लड़ते हैं परंतु अलग-थलग पड़ जाते हैं। कुछ लोग मजबूरी में भ्रष्टाचार को हवा देते हैं जबकि अपराधी प्रवृत्ति के लोग ऐसी बुराइयों के साथ मिलकर फ़ायदा उठाते हैं। दुख यह है कि कई बार ईमानदार लोग भी अज्ञानवश ऐसे लोगों के भ्रष्ट अचीवमेंट्स का विरोध करने के बजाय बधाई देने और उनकी हार पर मानवतावश सहानुभूति करने पहुँच जाते हैं। भ्रष्टाचार के विरुद्ध लड़ाई तभी लड़ी जा सकती है जब सज्जन वर्ग न केवल सशक्त और संगठित हो वह यह भी पहचाने कि अपने फ़ायदे के लिये ईमानदारी का राग अलापने वाला हर व्यक्ति भी ईमानदार नहीं होता। बहुत सुन्दर आलेख। आपके मन की व्यथा लाखों ईमानदारों की व्यथा है।

    ReplyDelete
  4. आपकी तमाम बातों से सहमत! बहुत कठिन है डगर पनघट की! :(

    ReplyDelete
  5. व्यवस्थायें पारदर्शी और सरल बनाने के अतिरिक्त और कोई उपाय नहीं है, ढेरों तन्त्र ऐसे हैं जो पारदर्शिता के कारण ही भ्रष्टाचार के चुंगुल से निकल पाये हैं।

    ReplyDelete
  6. आम आदमी को कोई भी काम करवाने के लिए अलग से चढ़ावा चढाने की आवश्यकता क्यों कर पैदा हुई. इसके लिए वे कैसे दोषी माने जा सकते है. आपसे पूरी तरह सहमत. प्रवीण पण्डे जी से भी सहमत.

    ReplyDelete
  7. हर शाख पे उल्लू बैठा है
    अंजाम ए गुलिस्तान क्या होगा ?..उतिष्ठकौन्तेय

    ReplyDelete
  8. हमारी प्रोग्रामिंग इतनी ख़राब हो चुकी है कि पूरी एक पीढ़ी चाहिए वांछित माहौल के लिए। क्यों न हम इस पोस्ट के संदेशों के साथ हम नववर्ष में प्रवेश करें!

    ReplyDelete
  9. आपसे सहमत.
    ये ही बात मैंने कई बार विभिन्न ब्लोगों पर कही भी हैं.वैसे भी आम आदमी के रहनुमाओं की ज्यादा बडी जिम्मेदारी बनती है.

    ReplyDelete
  10. आपको और परिवारजनों को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  11. प्रस्तुति अच्छी लगी । मेरे नए पोस्ट पर आप आमंत्रित हैं । नव वर्ष की अशेष शुभकामनाएं । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  12. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  13. @ भारतीय नागरिक जी ! आपने बिल्कुल सही बात कही है कि राम-राम करने से भी बहुत शांति मिलती है। नमाज़ में भी राम का ही नाम लिया जाता है।
    इसी के साथ आप यह भी जान लें कि रूमाल की जगह रूमाल और चादर की जगह चादर ही काम आती है।
    सुमिरन के लाभ अपनी जगह हैं लेकिन धरती से अन्याय और भ्रष्टाचार का ख़ात्मा केवल ईश्वर अल्लाह के आदेश निर्देश पर ही चलकर हो सकता है, केवल उसका नाम जपने से या कोई आंदोलन चलाने से नहीं हो सकता।
    विफल आंदोलनों की लंबी सूची यही बता रही है।
    यह धरती कभी आध्यात्मिकता से भरी पूरी हुआ करती थी लेकिन आज अध्यात्म और योग को भी व्यवसाय बना लिया गया है।
    राम नाम जो शांति देता है, उसे भी अशांति फैलाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।
    ईश्वर-अल्लाह की यह आज्ञा तो कहीं भी नहीं है और किसी भी भाषा में नहीं है।

    चिंतन सकारात्मक और एक सार्थक रचना प्रस्तुत करने के लिए आभार !

    Ram in muslim poetry, second beam चराग़ ए हिदायत और इमाम ए हिन्द हैं राम - Anwer Jamal
    राम

    लबरेज़ है शराबे हक़ीक़त से जामे हिन्द
    सब फ़लसफ़ी हैं खि़त्ता ए मग़रिब के राम ए हिन्द
    यह हिन्दियों के फ़िक्र ए फ़लक रस का है असर
    रिफ़अ़त में आसमां से भी ऊंचा है बामे हिन्द
    इस देस में हुए हैं हज़ारों मलक सरिश्त
    मशहूर जिनके दम से है दुनिया में नाम ए हिन्द
    है राम के वुजूद पे हिन्दोस्तां को नाज़
    अहले नज़र समझते हैं उसको इमाम ए हिन्द
    ऐजाज़ उस चराग़ ए हिदायत का है यही
    रौशनतर अज़ सहर है ज़माने में शाम ए हिन्द
    तलवार का धनी था शुजाअत में फ़र्द था
    पाकीज़गी में जोश ए मुहब्बत में फ़र्द था
    -बांगे दिरा मय शरह उर्दू से हिन्दी, पृष्ठ 467, एतक़ाद पब्लिशिंग हाउस, नई दिल्ली 2
    शब्दार्थ- लबरेज़-लबालब भरा हुआ, शराबे हक़ीक़त-तत्वज्ञान, ईश्वरीय चेतना, आध्यात्मिक ज्ञान, खि़त्ता ए मग़रिब-पश्चिमी देश, राम ए हिन्द-हिन्दुस्तान के अधीन (‘राम‘ यहां फ़ारसी शब्द के तौर पर आया है जिसका अर्थ है आधिपत्य), फ़िक्र ए फ़लक रस-आसमान तक पहुंच रखने वाला चिंतन, रिफ़अत-ऊंचाई, बामे हिन्द-हिन्दुस्तान का मक़ाम, मलक सरिश्त-फ़रिश्तों जैसा निष्पाप, अहले नज़र-तत्वदृष्टि प्राप्त ज्ञानी, इमाम ए हिन्द-हिन्दुस्तान का रूहानी पेशवा, ऐजाज़-चमत्कार, चराग़ ए हिदायत-धर्म मार्ग दिखाने वाला दीपक, रौशनतर अज़ सहर-सुबह से भी ज़्यादा रौशन, शुजाअत-वीरता, पाकीज़गी-पवित्रता, फ़र्द-यकता, अपनी मिसाल आप
    गागर में सागर
    अल्लामा इक़बाल की यह नज़्म ‘गागर में सागर‘ का एक बेहतरीन नमूना है। इस एक नज़्म की व्याख्या के लिए एक पूरी किताब चाहिए, यह एक हक़ीक़त है। मस्लन इसमें ‘शराबे हक़ीक़त‘ से हिन्दुस्तानी दिलो-दिमाग़ को भरा हुआ बताया गया है।
    Ram in muslim poetry,चराग़ ए हिदायत और इमाम ए हिन्द हैं राम - Anwer Jamal

    ReplyDelete
  14. @अनवर जमाल जी-रुमाल और चादर के विषय में थोडा विस्तार से बताएं.

    ReplyDelete
  15. बहोत अच्छा लगा आपका ब्लॉग पढकर ।

    नया हिंदी ब्लॉग

    हिन्दी दुनिया ब्लॉग

    ReplyDelete
  16. @अनवर जमाल जी-रुमाल और चादर के विषय में थोडा विस्तार से बताएं.
    के विषय में

    ♥ कुछ देर के लिए मालिक का नाम जपना या उसका ध्यान करना एक ऐसा काम है जिसमें मेहनत कम है जबकि पूरे जीवन को उसकी मर्जी के मुताबिक़ ढालना एक बड़ा काम है . छोटे काम का फल छोटा और बड़े काम का फल बड़ा होता है ,
    जैसे कि रूमाल से केवल सर ढका जा सकता है जबकि चादर पूरे शरीर को ढक सकती है.

    ReplyDelete
  17. भ्रष्टाचार के विषय में और खासकर आम आदमी के भ्रष्टाचार के सम्बन्ध में जितनी बातें आपने कहीं उसमें किसी तरह का विरोध नहीं है.. दरसल पारदर्शिता का अभाव अज्ञानता पैदा करता है व्यवस्था के प्रति और अज्ञानता से जन्म होता है भ्रष्टाचार का..
    आपने रेलवे का उदाहरण दिया है.. याद करें वे दिन जब एक बुकिंग क्लर्क की खुशामद से सीट पाने का कार्यक्रम शुरू होता था जो ट्रेन में टीटी की खुशामद तक जाता था.. जबसे नेट पर यह सुविधा उपलाब्ध हुयी, इसमें उस समय की तुलना में कमी आई है.. (समाप्त हुआ ऐसा नहीं है).. मैं बैंक में काम करता हूँ... हमारे नियमों में परिवर्तन हमारे पास आने से पहले ग्राहकों के पास होते हैं.. इसलिए नियम की आड़ में होने वाले भ्रष्टाचार नहीं हैं.. (मुक्त तो यह व्यवस्था भी नहीं)... इनकम टैक्स विभाग से जब नोटिस मिलाती है तो नोटिस भेजने वाला यह नहीं बताता कि किस आधार पर नोटिस भेजी है, यह आपको बताना है कि आपने सही टैक्स जमा करवाया है.. मिलिए, खर्च कीजिये तो सारा हिसाब ठीक...!!

    ReplyDelete
  18. अवैध रूप से कमाए गए धन के व्यय पर रोक लग सके तो लोग स्वयं ही इससे दूर हो जायेंगे! एक सार्थक समाधान ----आभार --- आपको एवं आपके परिवार को नए वर्ष की ढेरों शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  19. @अनवर जमाल जी- कृपया इस रूमाल और चादर के विषय में पूर्ण विस्तार से बताएं. आपके उत्तर की प्रतीक्षा है.

    ReplyDelete
  20. @ भारतीय नागरिक जी ! आप
    "ब्लॉगर्स मीट वीकली (24) Happy New Year 2012": में आयें .
    आपको यहाँ रूमाल और चादर दोनों मिलेंगे . देख कर फर्क आसानी से समझ में आ जायेगा .
    http://hbfint.blogspot.com/2012/01/24-happy-new-year-2012.html

    धन्यवाद .

    और एक जगह यह भी है जहाँ आपको अच्छा लगेगा -
    सूफ़ी तरीक़े से आत्म विकास का सिलसिला
    http://www.testmanojiofs.com/2011/12/1.html

    हरेक आस्तिक अपने पैदा करने वाले को किसी न किसी नाम से याद करता ही है।
    उसके नाम लेने के बहुत से तरीक़े हैं।
    भक्त जब अपने प्रभु का नाम लेता है तो कुछ समय बाद यह नाम उसके दिल में बस जाता है।
    नक्शबंदी सूफ़ियों की तालीम में हमने देखा है कि उनकी एक तवज्जो (शक्तिपात) से ही रब का नाम मुरीद के दिल से जारी हो जाता है यानि चाहे वह किसी से बात कर रहा हो या कुछ और ही सोच रहा हो या सो रहा हो लेकिन रब का नाम उसके दिल से लगातार जारी रहता है। जिसे अगर शैख़ चाहे तो मुरीद अपने कानों से भी सुन सकता है बल्कि पूरा मजमा उसके दिल से आने वाली आवाज़ को सुन सकता है। थोड़े ही दिन बाद बिना किसी भारी साधना के यह नाम शरीर के हरेक रोम से और ख़ून के हरेक क़तरे से जारी हो जाता है। इसे ‘सुल्तानुल अज़्कार‘ कहते हैं और मुरीद इस मक़ाम को 3 माह से भी कम अवधि में पा लेता है। इसके आगे की मंज़िलें ‘फ़ना और बक़ा‘ से ताल्लुक़ रखती हैं। जहां मुरीद अपने सूक्ष्म अस्तित्व का बोध करता है।
    यहां आकर हरेक आदमी जान लेता है कि भेद की दीवार हक़ीक़त में कोई वुजूद नहीं रखती है।
    हरेक जगह वह एक ही नूर को देखता है।
    सूफ़ी तरीक़े से आत्म विकास का सिलसिला
    यह नूर वह होता है जो हरेक चीज़ की पैदाइश की वजह है जिसे हिन्दू भाई ‘परमात्मा‘ कहते हैं और मुसलमान इसे ‘नूर ए मुहम्मदी‘ कहते हैं। यही वह नूर है जिसके बारे में हज़रत गुरू नानक रहमतुल्लाह अलैहि ने फ़रमाया है कि ‘अव्वल अल्लाह नूर उपाया , क़ुदरत ते सब बंदे‘।
    यह नूर ईश्वर-अल्लाह का अंश नहीं है बल्कि उसके गुणों का प्रतिबिंब है।
    जो लोग इस नूर को ईश्वर का अंश समझ लेते हैं वे ‘अनल हक़‘ और ‘अहं ब्रह्मस्मि‘ कहने लगते हैं।
    जो लोग इस मंज़िल से आगे निकल जाते हैं वे ब्रह्म को परब्रह्म कहते हैं और यह जान लेते हैं कि परब्रह्म अचिन्त्य और अविज्ञेय है, वह कल्पनातीत है। इसी कैफ़ियत को सूफ़ी लोग ‘वरा-उल-वरा‘ कहते हैं।
    ख़ास बात यह है कि यह सब ये लोग अपने दिमाग़ से सोच सोच कर नहीं करते बल्कि ये सब उनकी अपनी निजी अनुभूतियां होती हैं।
    ऐसी अद्भुत अनुभूतियों के साक्षी लोग दुनिया को प्यार और अम्न का रास्ता ही दिखाते हैं और बिल्कुल सही दिखाते हैं।
    जिसे आत्मा, परमात्मा, परमेश्वर और स्वर्ग-नर्क में संदेह हो, सू़फ़ी तरीक़े से साधना के बाद यह संदेह हमेशा के लिए दूर हो जाता है।
    तब आत्मा उसके लिए मात्र तर्क का ही विषय नहीं रह जाती बल्कि यह उसकी देखी और जानी हुई हक़ीक़त होती है।
    जीवन और मृत्यु का रहस्य जानने वाले यही लोग होते हैं।
    अमरता की सिद्धि यहीं होती है।
    आम लोगों की तरह मौत सूफ़ियों को भी आती है लेकिन यह उनकी जागृति के कारण उन्हें एक व्यापक जीवन की ओर ले जाती है जबकि साधारण आत्माएं सुषुप्ति की दशा में पड़ी रहती हैं।
    नींद मौत है और जीवन के लिए जागरण और बोध अनिवार्य है।

    जहां आम लोगों ने ज्ञान का केवल बाह्य पक्ष ही लिया , वहीं सूफ़ियों ने ज्ञान के दोनों प्रकार लिए हैं।
    ज्ञान का वह प्रकार भी उन्होंने लिया जिसे तर्क से जाना जा सकता है और ज्ञान का वह आंतरिक प्रकार भी जो बुद्धि की सीमा से परे है और जिसके लिए एकाग्रता और संयम के साथ साधना करनी पड़ती है।

    आपको हमारी बात में सार नज़र आया।
    आपका शुक्रिया !
    http://www.facebook.com/note.php?note_id=282808855103739

    ReplyDelete
  21. "ब्लॉगर्स मीट वीकली (24) Happy New Year 2012": में आयें .
    आपको यहाँ कुछ नया और हट कर मिलेगा .

    ReplyDelete
  22. बिलकुल ठीक कहा जमाल साहब. जब आदमी ईश्वर के प्रति लीन हों जाता है तो उसे फिर यह नहीं दिखाई देता कि मस्जिद कहाँ और मंदिर कहाँ. जाकी रही भावना जैसी....आप मंदिर में भगवान राम में अपने निराकार ईश्वर के वुजूद को खोज सकते हैं. अगर लक्ष्य एक है तो रास्ते की परवाह क्या. एक वक्त या एक से अनेक वक्त की प्रार्थना और राम नाम का सुमिरन. अगर पहुंचना एक जगह है तो रास्ता जिसे जो बढ़िया लगे. ये कोई दुकान जैसा थोड़े ही है कि मेरा माल तुम्हारे से अधिक बढ़िया.

    ReplyDelete
  23. हक़ीक़त को पाने के लिए गहरी नज़र की ज़रूरत पड़ती है
    @ भारतीय नागरिक जी ! यह दुनिया है, यहां असल के साथ नक़ल भी हैं और कामिल शैख़ के साथ यहां पाखंडी भी हैं।
    मक्कार लोग सूफ़ी और योगी बनकर माल इकठ्ठा कर रहे हैं और उन्हें देखकर अक्लमंद लोगों में धर्म-अध्यात्म के प्रति शक पैदा होने लगता है।
    जो सत्य की खोज में है, उसे बहुत होशियार रहना चाहिए।

    दीन सरासर रहमत है और आसान है। दुनिया की ज़िंदगी को सही उसूलों के मुताबिक़ गुज़ारना ही दीन है। इसी को धर्म कहा जाता है। दीन-धर्म के कुछ ज़ाहिरी उसूल होते हैं जिन्हें बरत कर इंसान एक अच्छे चरित्र का मालिक बनता है और समाज में इज़्ज़त पाता है। इन उसूलों के पीछे वे अक़ीदे और वे गुण होते हैं जो कि दिल में पोशीदा होते हैं। इन्हीं में से एक मुहब्बत है।

    दीन-धर्म की बुनियाद ईश्वर अल्लाह की मुहब्बत पर होती है। जो दिल इस मुहब्बत से ख़ाली होता है वह दीन-धर्म पर चल ही नहीं सकता। यही वह प्रेम है जिसके ढाई आखर पढ़े बिना कोई ज्ञानी नहीं हो सकता।
    जिससे मुहब्बत होती है उसकी याद दिल में बस जाती है और बार बार उसका चर्चा ज़बान से भी होता है। ज़िक्र और सुमिरन की हक़ीक़त यही है। दुनिया में जितने भी लोग किसी धर्म-मत को मानते हैं, वे ईश्वर अल्लाह का नाम ज़रूर लेते हैं।
    हज़ारों नाम हैं एक मालिक के

    हरेक आस्तिक अपने पैदा करने वाले को किसी न किसी नाम से याद करता ही है। जो जिस ज़बान को जानता है, उसी में उसका नाम लेता है। हरेक ज़बान में उसके सैकड़ों-हज़ारों नाम हैं। उसका हरेक नाम सुंदर और रमणीय है। ‘रमणीय‘ को ही संस्कृत में राम कहते हैं। ईश्वर से बढ़कर रमणीय कोई भी नहीं है। कोई उसका नाम ‘राम राम‘ जपता है तो कोई ‘अल्लाह अल्लाह‘ कहता है। अलग अलग ज़बानों में लोग अलग अलग नाम लेते हैं। योगी भी नाम लेता है और सूफ़ी भी नाम लेता है। यहां सृष्टा को राम कहा गया है जो कि दशरथपुत्र रामचंद्र जी से भिन्न और अजन्मा-अविनाशी है।
    हक़ीक़त को पाने के लिए गहरी नज़र, कड़ी साधना और निष्पक्ष विवेचन की ज़रूरत पड़ती है।
    और ज़्यादा तफ़सील जानने के लिए देखें-
    सूफ़ी साधना से आध्यात्मिक उन्नति आसान है Sufi silsila e naqshbandiya

    ReplyDelete
  24. @अनवर जी-आपके कमेन्ट बड़े ही सुन्दर हैं, कृपया आगे के भाग में और जानकारी दें. ताकि इस विषय पर और बात की जा सके.

    ReplyDelete
  25. दुर्भाग्य है देश का ... जनता को अफीम खिला खिला के निढाल बना दिया गया है ...
    आपको वन वर्ष की मंगल कामनाएं ...

    ReplyDelete
  26. आभार!! इस गम्भीर चिन्तन के लिए!!

    बुराईयां और अच्छाईयां जगत में सदैव ही विद्यमान रही है। प्रश्न यह है कि लोग किस प्रकार बुराई से दूर रहे और अच्छाई ही अपनाए।

    ReplyDelete

मैंने अपनी बात कह दी, आपकी प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा है. अग्रिम धन्यवाद.