Saturday, February 18, 2012

खेद प्रकाश....


13 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    कल शाम से नेट की समस्या से जूझ रहा था। इसलिए कहीं कमेंट करने भी नहीं जा सका। अब नेट चला है तो आपके ब्लॉग पर पहुँचा हूँ!
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  2. और क्या..ठीक तो है.

    ReplyDelete
  3. सच है, देश को एक और सेशन की ज़रुरत है.

    ReplyDelete
  4. @ smart indian-आज आपका कमेन्ट स्पैम में नहीं गया, यह देखकर अच्छा लगा, वर्ना हर बार स्पैम में पहुँच रहा था...

    ReplyDelete
  5. आख़िरकार कुरेशी साहब ने भी अपना कर्ज अदा कर दिया !:)

    ReplyDelete
  6. खेदीपरसाद जी कल यह चिठ्ठी भेजेंगे आयोग को!

    ReplyDelete
  7. गुंडों की सरकार के पास हथियार अनेक हैं और जनता निहत्थी है बेचारी...

    ReplyDelete
  8. ये तो अग्रिम जमानत लेकर अपराध करने जैसा हुआ। :)

    ReplyDelete

मैंने अपनी बात कह दी, आपकी प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा है. अग्रिम धन्यवाद.