Saturday, April 20, 2013

पुलिस का रवैया


दिल्ली में पाँच वर्षीया बच्ची के साथ हुये अमानुषिक कृत्य के बाद प्रदर्शन कर रही एक युवती के ऊपर थप्पड़ मारकर पौरुष दिखाने का कृत्य पुलिस के एक अधिकारी ने किया. यद्यपि उस अधिकारी को सस्पैंड कर दिया गया है, लेकिन पुलिस में लाइन-हाजिर होना, सस्पैंड होना आम बात है. अधिकारियों को थाने से हटा दिया जाता है बाद में दूसरी जगह तैनाती दे दी जाती है. लखनऊ में एक युवक की मौत थाने में हो गयी. कुछ अधिकारियों को सस्पैंड कर मामले की इतिश्री कर दी गयी. अलीगढ़ में एक बलात्कार की घटना के बाद वहाँ भी पुलिस अधिकारी प्रदर्शन कर रहे लोगों को लात-जूतों से निपटाते नजर आये. जाहिर है कि पुलिस वाले अपने लिये इस कारण कानून से ऊपर समझते हैं कि किसी भी प्रकार की त्वरित और कठोर कार्रवाई उन पर नहीं की जाती. उत्तर प्रदेश के ही एक अधिकारी को सीबीआई ने फर्जी मुठभेड़ का आरोपी बनाया है, लेकिन कोई प्रशासनिक कार्रवाई नहीं की गयी. पिछले दिनों ही एक डीएसपी और बारह ग्रामीणों की हत्या में पुलिस वालों को सजा सुनाई गयी, लेकिन उसमें भी ढ़ाई दशक लग गया.

मौजूदा ढ़ाँचा राजनीतिज्ञों ने अपने लाभ हेतु बना रखा है. इसीलिये वे किसी भी तरह का सुधार नहीं चाहते. वही हाल इन अधिकारियों का है, इन्हें यह लगता है कि वे खास हैं और उनके यहाँ आम हो ही नहीं सकता. उनके दिमाग में यह बैठ गया है कि वह सबको लठिया सकते हैं और उनके साथ यह नौबत कभी नहीं आ सकती. मुझे इन लोगों के मानसिक स्तर पर कभी संदेह नहीं हुआ, आखिर मानसिक रूप से विचलित कोई व्यक्ति शांति से प्रदर्शन कर रहे लोगों के ऊपर कैसे लाठी चला सकता है, और दूसरी तरफ मुंबई में उपद्रवियों के सामने कोई कैसे निरीह प्राणी बनकर खड़ा रह सकता है. दर-असल ये लोग भी समाज के ही एक अंग हैं और यह समाज की सही स्थिति दर्शाते हैं. सही स्थिति यह है कि आज अपने स्वार्थ पूर्ति हेतु हर व्यक्ति (अपवादों को छोड़कर) किसी भी हद तक जा सकता है और वही परिस्थिति अपने सामने होने पर चिल्लाता है. 

इस पीड़िता के मामले में जो लोग सौदा करवाने पर उतारू थे, जो अधिकारी कार्रवाई करने में हीला-हवाली कर रहे थे, जो प्रदर्शन करने वालों के दमन पर अड़े हुये थे, अगर उनके विरुद्ध तुरन्त कठोर कार्रवाई की जाती तो कुछ अच्छा संदेश जाता. लेकिन जब नीचे कार्रवाई होने लगेगी तो फिर नीचे वाले ऊपर वालों को भी जद में लेने लगेंगे, और जब ऊपर वालों पर कार्रवाई होगी तो फिर कानून का राज चलने लगेगा, लेकिन कानून का राज इस देश में कौन चाहता है, उसके अलावा जो कानून की व्याख्या अपने हिसाब से नहीं करवा पाता.

16 comments:

  1. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज रविवार (21-04-2013) के अब और नहीं सहेंगे : चर्चा मंच 1221 (मयंक का कोना) पर भी होगी!
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ!
    सूचनार्थ...सादर!

    ReplyDelete
  2. कभी कभी लगता है जैसे आम आदमी की पीड़ा से इनका कोई वास्ता ही नहीं ....

    ReplyDelete
  3. कभी कभी तो ऐसा लगता है इस राज काज और कानून से कुछ नही होने वाला, लगता है पूरा का पूरा "जिसकी लाठी उसकी भैंस" वाला समय आगया है.

    रामराम.

    ReplyDelete
  4. शायद इस मौके पर मुझे यह बात नहीं कहनी चाहिये लेकिन अभी कुछ दिन पहले ही इसी शहर के एक ऐसे ही मामले के बाद पीड़िता के पिता ने अखबार में ऐसी ही बात के लिये पुलिस की तारीफ़ की थी कि पुलिस वालों ने उस गरीब की कुछ पैसों से मदद की। पुलिस, प्रशासन का काम सुशासन और सुव्यवस्था प्रदान करने का ही है लेकिन इसमें जिम्मेदारी जनता की भी है। देखने में यही आता है कि कुछ अनचाहा हो जाने के बाद जनता, मीडिया एकपक्षीय तरीके से देखने सोचने लगते हैं।

    ReplyDelete
  5. मुझे तो लगता है कि बद्दुआआें का ही प्रताप है कि कुछ लोग पुलिसिए बन जाते हैं

    ReplyDelete
  6. वर्तमान में घटित घटना की
    सार्थक रपट
    उत्कृष्ट प्रस्तुति

    आग्रह है मेरे ब्लॉग में भी सम्मलित हों

    ReplyDelete
  7. आपने सही ही आँकलन किया है. "मौजूदा ढ़ाँचा राजनीतिज्ञों ने अपने लाभ हेतु बना रखा है"

    ReplyDelete
  8. It is really very unfortunate to see, the way our cop is behaving with women and downtrodden. Poor girl is getting treatment in AIIMS where she is struggling for her life, but that policeman was offering merely rs-2000/- to her father for ignoring the rape n all issue. How cruel !

    ReplyDelete
  9. Lekin HUM kab tak chup rahenge sabki aawaj ko dabana to asan nahee hoga. Jaroori hai ki aise apradhee adhikaree aur sarkar ke khilaf awaaj uthe.

    ReplyDelete
  10. ये अंधा कानून है जिसे दिखाई नहीं देता कि किस पर हाथ उठाना है किस को हाथों से सहारा देना है या राजनीतिज्ञों के डोर बंधी कठपुतली!

    ReplyDelete
  11. पुलिस तंत्र का पूरा ढांचा बदलना चाहिए ...
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  12. सारा तंत्र ही बिगडा हुआ है । हमारे चुने हुए नेता जब तानाशाही करने लगते हैं, तो पुलिस भी करती है । उनके लिये जब जनता को धमकाना होता है तो अपने शक्ति प्रदर्शन के लिये भी करती है ।

    ReplyDelete
  13. बहुत दिन बीते ...
    कहाँ हैं आप !

    ReplyDelete
  14. शुभकामनायें

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर.सटीक.बधाई!

    ReplyDelete

मैंने अपनी बात कह दी, आपकी प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा है. अग्रिम धन्यवाद.