Tuesday, January 17, 2012

बस यूं ही.


उसकी आंखों में समंदर सा उतर आया था,
डूब जाता न भला और तो क्या करता मैं .

कोशिशें कर न सका उसको भूल पाने की
जिस्म से रूह कहीं यूं भी जुदा होती है.

याद आता रहा वो महफिल-ओ-तन्हाई मे
इश्क क्या चीज है जो दिल में उतर जाती है.

खाने को मयस्सर हुए न निवाले दो उसको
तेरी दुनिया में बसर यूँ भी खुदा होती है.

11 comments:

  1. सुन्दर भाव हैं.

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छे महाराज । बढिया हैं सब के सब

    ReplyDelete
  3. हे भगवान,क्या गत है इश्क वालों की।

    ReplyDelete
  4. अभिव्यक्ति का यह अंदाज निराला है. आनंद आया पढ़कर.

    ReplyDelete
  5. खुशनसीब होते हैं जिन्हे ऐसा समन्दर मिलता है डूबने उतरने को।

    ReplyDelete
  6. आप खोये रहें सुन्दर कल्पनाओं में..

    ReplyDelete
  7. उसकी आंखों में समंदर सा उतर आया था,
    डूब जाता न भला और तो क्या करता मैं .

    वाह, हर मिसरे में अनगिनत पैगाम छुपे बैठे है,

    यहाँ गुदड़ी में मीर और खैयाम छुपे बैठे है !

    ReplyDelete
  8. कोशिशें कर न सका उसको भूल पाने की
    जिस्म से रूह कहीं यूं भी जुदा होती है....

    आज कुछ अलग मूड है आपके ब्लॉग का ... लाजवाब शेर नज़र आ रहे हैं ... बहुत खूब ..

    ReplyDelete
  9. वाह!
    बहुत बढ़िया!
    अपनी सुविधा से लिए, चर्चा के दो वार।
    चर्चा मंच सजाउँगा, मंगल और बुधवार।।
    घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
    लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी होगी!

    ReplyDelete
  10. यूं ही में भी इतना !!!

    ReplyDelete

मैंने अपनी बात कह दी, आपकी प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा है. अग्रिम धन्यवाद.